Carrier in Indian Airforce

मॅाडर्न वारफेयर्स आर स्टोरी ऑफ एयर क्राफ्ट्स, आधुनिक युद्धों के विषय में कही जाने वाली यह उक्ति काफी हद तक सही मालूम होती है। एयर फोर्स के विमान दुश्मन के ठिकानों पर हमला करके उसे तबाह कर देते हैं, इसके बाद थल सेना इस पर अपना कब्जा कर लेती है। इसके अलावा थल सेना और नौ सेना दोनों को आगे बढ़ने में वायु सेना एक सपोर्ट विंग के रूप में काम करती है।
भारतीय वायु सेना विश्व की बड़ी और आधुनिकतम सेनाओं में एक है। विमानों तथा जटिल मशीनों से लैस होने के कारण, वायु सेना को, इनके संचालन के लिए भारी संख्या में युवाओं की जरूरत होती है। दिलों में देशभक्ति का जज्बा हो और शारीरिक तथा मानसिक रूप से पूर्णतया मजबूत हैं तो भारतीय वायु सेना में आपका भविष्य उ”वल हो सकता है।

वायु सेना में अवसर तलाशने वाले युवाओं के लिए मुख्य रूप से चार रास्ते हैं। ये हैं, संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित होने वाली राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) और संयुक्त रक्षा सेवा (सीडीएस) परीक्षा, शार्ट सर्विस कमीशन और सेंट्रल एयर मैन सलेक्शन बोर्ड। एनडीए सीडीएस और शार्ट सर्विस कमीशन के माध्यम से आफीसर्स का चयन होता है, जबकि सेंट्रल एयर मैन सलेक्शन बोर्ड द्वारा एयर मैन की नियुक्ति होती है। संघ लोक सेवा आयोग वर्ष में दो बारएनडीए व सीडीएस परीक्षा आयोजित करता है।

एनडीए: राष्ट्रीय रक्षा अकादमी तीनों सेनाओं में प्रवेश के लिए आयोजित की जाने वाली परीक्षा है। फार्म भरते समय उम्मीदवार को तीनों सेनाओं के लिए इच्छित वरीयता क्रम निर्दिष्ट करना होता है और परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर उसका चयन सेना के तीनों अंगों में से किसी एक के लिए किया जाता है। इन परीक्षा में आवेदन हेतु अभ्यर्थी को 10+2 होना चाहिए, लेकिन एयर फोर्स में प्रवेश के लिए फिजिक्स तथा मैथ विषय के साथ 10+2 होना अनिवार्य है। इस इंट्री के लिए अभ्यर्थी की आयु 16.5 से 19 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

सीडीएस: यह परीक्षा भी तीनों सेनाओं में अधिकारी स्तर पर स्नातक अभ्यर्थियों की नियुक्ति के लिए आयोजित की जाती है। आयु सीमा 19 से 23 साल है। इसके जरिए वायु सेना में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को इंजीनियरिंग की डिग्री या फिर स्नातक मगर 10 +2 में फिजिक्स और मैथ्स होना अनिवार्य है। यह परीक्षा फरवरी और अगस्त में होती है। उपरोक्त दोनों परीक्षाओं में सफल छात्रों को सर्विसेज सलेक्शन बोर्ड(एसएसबी) इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।
पांच दिनों का यह इंटरव्यू देश भर में फैले एसएसबी केंद्रों पर होता है। दोनों ही इंट्री के माध्यम से पायलट तथा ग्राउंड डयूटी आफिसर नियुक्त किए जाते है। किंतु पायलट बनने के लिए एसएसबी इंटरव्यू के दौरान पायलट एप्टीटयूड टेस्ट में पास होना अनिवार्य है।

शार्ट सर्विस कमीशन
शार्ट सर्विस कमीशन के जरिए वायु सेना में सेवा का अवसर पांच वर्ष की निश्चित अवधि के लिए दिया जाता है व अच्छी सेवा के आधार पर इसे अगले दस वर्षो तक के लिए बढ़ाया जा सकता है। इसके तहत फ्लाइंग (पायलट), एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, एजूकेशन, प्रशासनिक, एकाउंट आदि ब्रांच के अधिकारियों का चयन किया जाता है। इसके लिए वायु सेना मुख्यालय समय समय पर आवेदन आमंत्रित करता है, जिसके लिए विज्ञापन समाचार पत्रों तथा रोजगार समाचार में प्रकाशित होते हैं।

फ्लाइंग ब्रांच
एनसीसी के एयर विंग में सी सर्टिफिकेट में न्यूनतम बी ग्रेड वाले अभ्यर्थी एसएससी के माध्यम से फ्लाइंग ब्रांच में आवेदन कर सकते हैं। स्नातक परीक्षा में अभ्यर्थी के 50 प्रतिशत नंबर होने चाहिए। उपरोक्त योग्यता वाले अभ्यर्थी को सीधे एसएसबी के लिए बुलाया जाता है।

टेक्निकल ब्रांच
वायु सेना की यह शाखा इंजीनियरिंग डिग्री धारी युवाओं के लिए है। इस ब्रांच में अभ्यर्थियों का चयन इंजीनियरिंग नॉलेज टेस्ट और एसएसबी के आधार पर होता है। एयरोनॉटिकल इंजीनियरों का कार्य विमानों और उनमें लगने वाले हथियारों और अन्य उपकरणों का रखरखाव करना है। आवेदन के लिए अभ्यर्थी के पास किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से प्रथम श्रेणी की बीई या बीटेक (इलेक्ट्रॉनिक, मेकैनिकल) की डिग्री होनी चाहिए। टेक्निकल ब्रांच में इसके अलावा युनिवर्सिटी इन्ट्री स्कीम के तहत भी प्रवेश मिलता है। मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों के वे छात्र जो फाइनल या तृतीय वर्ष में हैं, वे भी इंजीनियरिंग नॉलेज टेस्ट दे सकते हैं। इसके बाद एसएसबी टेस्ट में सफल रहने पर डिग्री पूरी होने पर वायु सेना द्वारा अधिकारी के रूप में उनकी नियुक्ति की जाती है।

ग्राउंड डयूटी ब्रांच
यह शाखा वायु सेना स्टेशनों पर प्रशासनिक कार्यो से लेकर केटरिंग, मौसम संबंधित जानकारी, अकाउंट आदि मामलों की देखरेख करती है। प्रशासनिक आफिसर ब्रांच में आवेदन के लिए आवेदक को प्रथम श्रेणी में बीएससी या 50 प्रतिशत नंबर के साथ एलएलबी होना चाहिए। आयु सीमा 20 से 25 वर्ष के बीच है। एकाउंट ऑफिसर ब्रांच के लिए प्रत्याशी को प्रथम श्रेणी में बीकॉम या 50 प्रतिशत नंबरों के साथ एमकॉम होना चाहिए। आयु सीमा 20 से 25 साल है। मौसम विज्ञान विभाग में आने के इच्छुक आवेदक को 55 प्रतिशत नंबरों के साथ एमएससी होना चाहिये। आयु सीमा है 24 साल। इन सभी पदों के लिए अधिकारी का चयन एसएसबी साक्षात्कार के आधार पर होता है।

एजूकेशन ब्रांच
एजूकेशन ऑफिसर ब्रांच में जाने के इच्छुक उम्मीदवार को संबंधित विषय में 50 प्रतिशत नंबरों के साथ पोस्ट ग्रेजुएट होना चाहिये। आयु सीमा है 25 साल। इस इंट्री में भी चयन का आधार एसएसबी साक्षात्कार है। विमेन स्पेशल इंट्री स्कीम एनडीए व सीडीएस के जरिए महिलाएं वायुसेना में प्रवेश नहीं कर सकती। उनके लिए शार्ट सर्विस कमीशन के तहत स्पेशल इंट्री स्कीम चलाई जा रही है। इसके लिए आवेदक को मैथ या फिजिक्स में बीएससी अथवा बीई या बीटेक होना चाहिए। आयु 20 से 23 वर्ष के बीच होनी चाहिए। चयन एसएसबी साक्षात्कार के आधार पर होता है। इस इंट्री द्वारा महिला अभ्यर्थियों की नियुक्ति फ्लाइंग, इंजीनियरिंग, मेट्रोलॉजी ब्रांच में होती है। इसके अलावा महिलाएं एडमिस्ट्रेशन, एकाउंटस और एजुकेशन में भी कार्य कर सकती हैं।

एयर मैन
वायु सेना में कम शैक्षिक योग्यता वाले युवाओं के लिये भी रोजगार के अनेक अवसर हैं। इन पदों के लिए सेन्ट्रल एयरमैन सलेक्शन बोर्ड प्रवेश परीक्षाएं लेता है।

एयरमैन टेक्निकल ट्रेड : इसमें भर्ती की न्यूनतम योग्यता विज्ञान विषयों में 45 प्रतिशत नंबर के साथ हाईस्कूल या 50 प्रतिशत नंबर के साथ इंटरमीडिएट या मेकैनिकल, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा है। उम्मीदवार की उम्र 15 से 19 साल होनी चाहिए। लिखित परीक्षा सामान्य गणित और विज्ञान पर आधारित होती है। नॉन टेक्निकल ट्रेड : वायु सेना के इस ट्रेड में भर्ती की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता हाईस्कूल है। दसवीं में अंग्रेजी विषय के साथ 45 प्रतिशत नंबर होना अनिवार्य है। लिखित परीक्षा अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान पर आधारित होती है। उम्मीदवार की उम्र सीमा 16 से 19 वर्ष है।

ड्राइवर मेकैनिकल ट्रांसपोर्ट ट्रेड : आवेदक की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता अंग्रेजी के साथ हाईस्कूल है। उम्र सीमा 16 से 19 साल है।

म्युजीशियन ट्रेड एयर मैन : आवेदक में अंग्रेजी लिखने और पढ़ने की क्षमता होनी चाहिए तथा गणित का भी अच्छा ज्ञान होना चाहिये। इसके अतिरिक्त उसे ट्रम्पेट, बास, वायलिन, सैक्सोफोन, यूफोनियन, जॉज ड्रम, कीबोर्ड आदि में से, किसी एक वाद्य यंत्र में निपुण होना चाहिए। उसकी आयु 16.5 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

सीनियर नॉन कमीशन एजूकेशन ऑफिसर ट्रेड : इसके लिए शैक्षिक योग्यता है टीचिंग ग्रेड में बीए या बीएससी। एक वर्ष का शिक्षण अनुभव रखने वाले लोगों को वरीयता दी जाती है। आयु सीमा 18 से 24 वर्ष है। पोस्टग्रेजुएट के लिए आयु सीमा में 2 साल की छूट है।

एयरमैन की नियुक्ति से संबंधित और अधिक जानकारी के लिए संपर्क का पता है-
सेन्ट्रल एयरमैन सलेक्शन बोर्ड, पोस्ट बॉक्स नं. 3004, नई दिल्ली, 110003
वायुसेना में अवसर तलाशने वाले युवक निम्नलिखित वेबसाइट्स से भी इस बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं
www.upsc.gov.in
www.bharat-rakshak.com
www.indianairforce.nic.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *